Poos KI Raat

Auteur: Premchand
Taal: Hindi
Poos KI Raat
  • Paperback
  • 9781523809912
  • februari 2016
  • 122 pagina's
Alle productspecificaties

Samenvatting

हल्कू ने आकर स्त्री से कहा—सहना आया है, लाओ, जो रुपए रखे हैं, उसे दे दूँ। किसी तरह गला तो छूटे।

मुन्नी झाड़ू लगा रही थी। पीछे फिर कर बोली—तीन ही तो रुपए हैं, दे दोगे तो कंबल कहाँ से आवेगा? माघ-पूस की रात हार में कैसे कटेगी? उससे कह दो, फ़सल पर दे देंगे। अभी नहीं।

हल्कू एक क्षण अनिश्चित दशा मे खड़ा रहा। पूस सिर पर आ गया, कंबल के बिना हार में रात को वह किसी तरह नहीं सो सकता। मगर सहना मानेगा नहीं, घुड़कियाँ जमावेगा, गालियाँ देगा। बला से जाड़ों में मरेंगे, बला तो सिर से टल जाएगी। यह सोचता हुआ वह अपना भारी-भरकम डील लिए हुए (जो उसके नाम को झूठा सिद्ध करता था) स्त्री के समीप आ गया और ख़ुशामद करके बोला—ला दे दे, गला तो छूटे। कंबल के लिए कोई दूसरा उपाए सोचूँगा।

मुन्नी उसके पास से दूर हट गई और आँखें तरेरती हुई बोली—कर चुके दूसरा उपाए! ज़रा सुनूँ कौन-सा उपाए करोगे? कोई ख़ैरात दे देगा कंबल? न जाने कितनी बाकी है, जो किसी तरह चुकने में ही नहीं आती। मैं कहती हूँ, तुम क्यों नहीं खेती छोड़ देते? मर-मर काम करो, उपज हो तो बाकी दे दो, चलो छुट्टी हुई। बाकी चुकाने के लिए ही तो हमारा जनम हुआ है। पेट के लिए मजूरी करो। ऐसी खेती से बाज आए। मैं रुपए न दूँगीन दूँगी।

हल्कू उदास होकर बोला—तो क्या गाली खाऊँ?

मुन्नी ने तड़पकर कहा— गाली क्यों देगा, क्या उसका राज है?

मगर यह कहने के साथ ही उसकी तनी हुई भौंहें ढीली पड़ गईं। हल्कू के उस वाक्य में जो कठोर सत्य था, वह मानो एक भीषण जंतु की भाँति उसे घूर रहा था।

उसने जाकर आले पर से रुपए निकाले और लाकर हल्कू के हाथ पर रख दिए। फिर बोली—तुम छोड़ दो, अबकी से खेती। मजूरी में सुख से एक रोटी खाने को तो मिलेगी। किसी की धौंस तो न रहेगी। अच्छी खेती है। मजूरी करके लाओ, वह भी उसी में झोंक दो, उस पर से धौंस।

प्रेमचंद की मशहूर कहानियाँ (Search the book by ISBN)

01. ईदगाह (ISBN: 9788180320606)

02. पूस की रात (ISBN: 9788180320613)

03. पंच-परमेश्वर (ISBN: 9788180320620)

04. बड़े घर की बेटी (ISBN: 9788180320637)

05. नमक का दारोगा (ISBN: 9788180320651)

06. कजाकी (ISBN: 9788180320644)

07. गरीब की हाय (ISBN: 9788180320668)

08. शतरंज के खिलाड़ी (ISBN: 9788180320675)

09. सुजान भगत (ISBN: 9788180320729)

10. रामलीला (ISBN: 9788180320682)

11. धोखा (ISBN: 9788180320699)

12. जुगनू की चमक (ISBN: 9788180320736)

13. बेटों वाली विधवा (ISBN: 9788180320743)

14. दो बैलों की कथा (ISBN: 9788180320750)

15. बड़े भाई साहब (ISBN: 9788180320705)

16. घरजमाई (ISBN: 9788180320767)

17. दारोगाजी (ISBN: 9788180320774)

18. कफ़न (ISBN: 9788180320781)

19. बूढ़ी काकी (ISBN: 9788180320798)

20. दो भाई (ISBN: 9788180320712)

Productspecificaties

Inhoud

Bindwijze
Paperback
Verschijningsdatum
februari 2016
Aantal pagina's
122 pagina's
Aanbevolen leeftijd
14 - 21 jaar
Illustraties
Nee

EAN

EAN
9781523809912

Overige kenmerken

Extra groot lettertype
Nee
Taal
hi

Je vindt dit artikel in

Categorieën
Boek, ebook of luisterboek?
Boek
Nog geen reviews
14 99
Verwacht over 10 weken Tooltip
Verkoop door bol.com
In winkelwagen
  • Gratis verzending door bol.com vanaf 20 euro
  • Ophalen bij een bol.com afhaalpunt mogelijk
  • 30 dagen bedenktijd en gratis retourneren
  • Dag en nacht klantenservice